मंगलवार, 30 अगस्त 2011

आज का युवा....

आज फुर्सत कहाँ जवानी को जो देखे जमी की तरफ,

उनकी हर एक शाम तो बस रंगीन मिजाज चाहिए,


जिधर भी नजरे उठाकर देखा टिमटिमाते जुगुनू ही नजर आये,

खुद मिटा कर भी जले एक ऐसा आफताब चाहिए,


सिर्फ हलचल पैदा करने की मेरी नियत नहीं रहती,

उठकर जो गिरे मुझे तो वो सैलाब चाहिए,


अपनी हर एक साँस को इस वतन के नाम कर चूका कब का,

मुझको दरकार खून की है, अफ़सोस तुम्हे अब भी किताब चाहिए !”

खूबसूरत...

""ख्वाब खूबसूरत है और है खयालात खूबसूरत,

लिखूं जो तेरा नाम तो लगे हर बात खूबसूरत।


टकरा के पलकों की कोर से जो अश्क बह चले,

देखा जरा गौर से तो लगे है बरसात खूबसूरत।


रात, नींद, करवटें, अंगड़ाइयों के वो दौर सब,

इश्क में तो हुए जाते हैं, अब हालात खूबसूरत।।""

मंगलवार, 23 अगस्त 2011

न अपनी फिकर, न औरों की पूछ

चुप खड़े हैं पत्थरों के सामने,

क्या यही हैं दरपनों के मायने,

लोग पूछते नहीं...

क्या पता ठिकाना तुम्हारा,

बस कहते हैं चलता जा,

मंजिल मिल जायेगी सामने।।


भूख है या यूं ही बिलख रहा है कोई,

क्या पड़ी किसी को पूछे रूककर,

बस मुस्कुराहटों की महफिल उन्हें भाती,

खुशियों का सौदा करने का है वो आदती।।


शहर के लोग

पहले दिलो-दिमाग पर छाये शहर के लोग,

लगने लगे हैं अब तो पराये शहर के लोग।


मैं तो पढ़ा गया हूँ अखबार की तरह,

मेरी ही बात मुझसे छुपाये शहर के लोग।


बन गये हैं अब वहीं आखों की ही किरकिरी,

पहले थे जो आखों में समाये शहर के लोग।


सड़कों पे घूमता हूँ महज एक लाश बन,

हक दोस्ती का खूब निभाये शहर के लोग।


इस छोर से उस छोर तक बारूद बन गयी,

छोटी सी बात सर पे उठाये शहर के लोग।


ऊँची इमारतों की तरफ देख रहा हूँ
,

लगते हैं बनावटीपन से सजाये शहर के लोग।।


शुक्रवार, 19 अगस्त 2011

जाने अब वो कैसा होगा ...

"काफी अरसा बीत गया ,
जाने अब वो कैसा होगा ।

वक्त की सारी कडवी बातें ,
चुप-चुप से वो सहता होगा ।
अब भी भीगी बारिश में वो ,
बिन छतरी के चलता होगा ।

मुझसे बिछड़े अरसा हो गया ,
अब वो किससे लड़ता होगा ।
अच्छा था जो साथ में थे ,
बाद में उसने सोचा होगा ।
अपने दिल की सारी बातें ,
खुद ही खुद से करता होगा ।

आंखे नम भी होती होंगी ,
याद वो जब भी करता होगा ।
काफी अरसा बीत गया ,
जाने अब वो कैसा होगा ..।"

कुछ रोज जी के देखते हैं...

"हौसले ज़िन्दगी के देखते हैं,
चलिए कुछ रोज जी के देखते हैं।

नींद पिछली सदी से ज़ख़्मी है,
और ख्वाब अगली सदी के देखते हैं।

बारिशों से तो प्यास बुझती नहीं,
आईये फिर ज़हर पी के देखते हैं...!"

मंगलवार, 16 अगस्त 2011

एक शहर की हकीक़त...

"सुना था दिल पे राज करते हैं, दिल्ली के बाशिंदे...
मगर सच्चाईयों में उम्मीदों का अक्स टूट चूका है !

फरेबी हैं यहाँ सभी , कोई सच्चा नहीं है,
जबाँ मीठी मगर दिल से कोई अच्छा नहीं है !

किताबें और तेजी खा गई बचपन शहर के ,
उम्रे बचपन में भी कोई बच्चा यहाँ, बच्चा नहीं है !

मिर्जा के शहर में कभी, शब्दों पर भी दिल धड़कता था,
वहां अब शब्द केवल जग-हसाई के काम आता है!

महक भी खो रही है अपने जमीं की, यहाँ की पुरवाई में,
हैं शीशे के सभी लोग, कोई मकाँ भी कच्चा नहीं है!

कंक्रीट का है जंगल, संगमरमर की बूते हैं,
इन पत्थरों की भीड़ में इंसान भी घुटे हैं...!"

रविवार, 14 अगस्त 2011

तन-मन की तकरार..

"शहर में तेरे जीने का सामान कहाँ,
मैखाने हैं पर आँखों के जाम कहाँ!

कुछ और सबब होगा उसकी बेचैनी का,
रखता है सर मेरे वो इल्जाम कहाँ!

समझाएं कैसे दिल के आईने को,
नाम हुआ है मेरा, मै बदनाम कहाँ!

करते हो हर बार शिकायत क्यों बेजा,
नहीं हो मीरा जब तुम, मै श्याम कहाँ!

ढूंढ़ रहा है खुद को ही जाने कब से,
बनारस में अब रहता है 'आकाश' कहाँ..!"

शनिवार, 13 अगस्त 2011

‘‘कुत्तों को नहीं हजम होता घी....’’

कहते हैं न कि अगर किसी को उसकी औकात से ज्यादा खुशी मिल जाती है तो वह उसे संभाल नहीं पाता, कुछ ऐसा ही हाल इंग्लैंड क्रिकेट टीम का है। टेस्ट क्रिकेट की नंबर एक टीम भारत को लगातार दो टेस्ट मैच में पटखनी देने के बाद नंबर एक बनने की कगार पर खडी इंग्लिश टीम इस बात को नहीं पचा पा रही है और भारतीय खिलाडियों के बारे अनाब-शनाब बयानबाजी कर ठेठ हिंदी की एक कहावत ‘कुत्तों को नहीं हजम होता घी...’ को चरितार्थ कर रही है।

इस बात में कोई दो राय नहीं कि इंग्लैंड टीम अपने पूरे रौ में है और उसके खिलाडी अपने जीवन के सबसे शबाब वाले फार्म के स्तर से गुजर रहे हैं। ऐसे में जीत और शानदार प्रदर्शन के लिए उनकी प्रशंसा लाजमी है लेकिन अपनी जीत को दूसरों की हार से जोडना तथा सामने वाली टीम पर छींटाकशी करना सही नहीं। वैसे भी क्रिकेट को जैन्टलमैंस गेम कहा जाता है और बीते सालों तक यह परिपाटी कायम भी रही। जब कपिल देव, सुनील गावस्कर, एलेन बार्डर, माइकल होल्डिंग और स्टीव वॉ जैसे कई खिलाडी अपने समय में खेल के प्रति मैदान पर काफी उग्र रहे लेकिन उनका खेल और व्यक्तिगत पहलू कभी एक-दूसरे के आडे नहीं आये। जितनी उग्रता खेल में दिखी, उतनी ही सरलता उनके संवादों में थी। वह देश के लिए खेलते हुए भी खेल को ज्यादा तवज्जों देते थे जबकि आज क्रिकेट का स्वरूप बदल गया है और जैन्टलमैंस गेम अब अपशब्दों के शब्दावली के नये आयाम गढते हुए छींटाकशी के मैसलेनियस स्तर तक आ गया है। जहां किसी भी टीम और खिलाडी पर कोई भी किसी भी प्रकार के नजरिये के साथ बयानबाजी कर देता है, और यदि किसी प्रकार से उसके खिलाफ कार्रवाई का डर बनाया जाता है तो वह झट से शर्मिंदगी की हदों को पार का माफी मांग लेता हैŸ। जिसे आज कल सोशल मैनर कह कर संबोधित किया जाने का चलन है।

इंग्लिश टीम जो अपनी ही जमीन पर भारतीय शेरों को लगातार खेल के उम्दा प्रदर्शन से धमकाये हुए है कि वह उसके नंबर एक की बादशाहत पर कब्जा कर लेगी, जो अब शायद साकार होने की ओर है। बर्मिंघम में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच में भी इंग्लैंड की पकड मजबूत है और अब शायद इस बात का इंतजार है कि भारत अपनी हार को कितना लम्बा खींच सकता है। इस सबके बीच भले ही इंग्लैंड प्रदर्शन से आंकडों को आधार बना नंबर एक बन जाये लेकिन इंग्लिश क्रिकेट टीम का व्यवहार और वहां की मीडिया का रवैया बादशाहत के लायक नहीं है। नंबर एक भारत भी रहा है या कहिए अभी है और पिछले दस माह से अपने बादशाहत को कायम भी रखे हुए हैŸ लेकिन कभी भारत को अपने नंबर एक होने पर दंभ नहीं रहा। जबकि बादशाहत की ओर अग्रसर इंग्लिश टीम पर पहले से ही अव्वल होने का सुरूर इंग्लिश खिलािडयों और वहां की मीडिया पर छाने पर लगा है तभी तो वह भारतीय टीम की हार और खिलाडियों के लचर प्रदर्शन को लतीफों और अट्ठहास के रूप में भूना रहे हैं। एक ओर जहां इंग्लिश मीडिया ने भारतीय टीम को बूढे बार्डर काली’ प्रजाती के कुत्ते से तुलना की, वहीं द्रविड पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि अब समझ में आया कि उन्हें वाल (दीवार) क्यों कहा जाता है क्योंकि गेंद उनसे टकराकर वापस आ जाती है। इसके अलावा सहवाग पर बॉल टेंपरिंग का आरोप भी लगाया है।

भारतीय टीम और खिलाडियों पर किये गये कटाक्ष से यह तो स्पष्ट है कि इंग्लिश टीम जीत और नंबर एक के दर्जे से करीबी को पचा नहीं पा रही है। इसी लिए क्रिकेट जनक देश अब तक की अपनी नाकामियों और हार को खुन्नस के तौर पर बाहर निकाल रही है। आखिर इंग्लिश खिलाडी और वहां की मीडिया भी बेचारी क्या करे, पहली बार तो ऐसा मौका आया है कि इंग्लैंड विशेष तौर पर जाना जायेगाŸ। क्रिकेट का जन्मदाता होने के बावजूद वह न तो विश्वविजेता बन सका है और न ही आज से पहले कभी खेल में उसका वर्चस्व रहा है। बीते साल दो साल में ही वह निखरा है। ऐसे में छोटे बच्चें की तरह जो लगातार परीक्षा में फेल होने के बाद जब पास होता है तो सोचता है उससे बेहतर कोई नहीं और गर्व में फूल जाता हैŸ। कुछ ऐसा ही हाल इंग्लिश मैन का भी है जीत मिल रही है, नंबर एक बनने जा रहे है तो हार और मात के कढवे घूंट को पीने के बाद मिल रही देशी घी में लिपटी सौधी जीत की खुशी को वह पचा पाने नहीं पा रहे हैं। अपने इस व्यवहार से उन्होंने दर्शा दिया है कि वह तालाब के मेंढक की तरह हैं तो थोडी सी जीत की बारिश को ही सारा समंदर मान लेते हैं और खुशी में टर्राने लग पडते हैं।

इन सबके बावजूद इंग्लिश टीम और मीडिया को ध्यान रखना चाहिए उनकी ये तल्ख टिप्पणियां किस टीम और किन खिलाडियों पर आ रही है, जो अपने खेल और खेल भावना के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध हैंŸ। वैसे भी राहुल द्रविड और विरेंद्र सहवाग को गोरी चमडी के इन सूअरों के उटपटांग बयानबाजी से कोई फर्क नहीं पडेगा। जो खिलाडी क्रिकेट के दो प्रमुख फार्मेट में साढे दस हजार से ज्यादा रनों के पहाड पर खडा हो वह भला जमीनी खोह स्तर वाली सोच रखने वाले इंग्लिश मैन की परवाह क्यों करेगा। राहुल द्रविड को पता है कि टीम में उनकी क्या उपयोगिता है और किस लिए उन्हें ‘द वाल’ और ‘श्रीमान भरोसेमंद’ कहा जाता है। वैसे भी द्रविड ने अपने करियर में कभी कुत्तों के भौकने की परवाह नहीं की क्योंकि उन्हें पता है उनके हर काम के साथ जहां कुछ लोग आपकों पसंद करते हैं तो उसी क्रम में कुछ आलोचक भी जन्म लेते हैंŸ, जिनका उद्देश्य मात्र लोगों की आलोचना करना ही होता है।

गुरुवार, 11 अगस्त 2011

जोश और उम्मीद....

खिलखिला रही है नसों में, सौ दर्द की अठखेलियाँ,

आजादी के सावन में भी गुलाम मन की होलियाँ,

कैसे भला कह दे की हम, करते नहीं परवाह तनिक,

जब देश में बम फोड़ आतंकी मना रहे दिवालियाँ।


आज भी जब देखता हूँ खून को बिखरे हुए,

अपने ही भाई बंधुओं को कराह में सिमटे हुए,

दिलो-दिमाग में छाये कुंध से तड़प उठता हूँ,

कि या तो सब रहे खुश या दुनिया ही मिटा दूं।


फैंली हो शांति दूर तक, दिलों में अमन हों,

यह देश हमारा फिर से एकता का चमन हों,

रंजो-गम के मेले में खुशियों के ठेले हों,

ना बोझ हो किसी पर, न महफिल में अकेले हों।


दिन आयेगा ऐसा भी कि खुशियां ही खिलेंगी,

तकरार की आंच पर पककर मोहब्बत ही मिलेंगी,

तीखी जुबान, कढवे विचार से भी शहद फूटेगा,

जब आदमी का गुरूर आदमी के प्यार पर टूटेगा।

बुधवार, 10 अगस्त 2011

ये कैसी लाचारी है...

सब के सब चुपचाप खड़े हैं, ये कैसी लाचारी हैं,
तानाशाही लगता हैं की लोकतंत्र पर भारी हैं !

झूट कपट वालों ने देखो सच्चाई को मारा हैं,
काले अंगरेजों से फिर दिल्ली में गाँधी हारा हैं !

योग गुरु बाबा को नेताओं ने कैसा रूप दिया,
राजनीती ने मानो सत्याग्रह के मूह पर थूक दिया !

बड़े इशारे पाकर के वर्दी ने ऐसा है काम किया,
दिल्ली की मिटटी को मासूमों के खूं से लाल किया !

रामलीला मैदान में जलियाँ वाली हुई कहानी हैं,
ये सरकार तो भारत में डायर की आज निशानी हैं !

कभी बाबाओ, कभी छात्रो पर लाठियां बरसी हैं,
लेकिन हर कराह पर देश के युवा रणभेरी गरजी हैं!

है इतिहास गवाह कि युवाओं कि हुंकार बुरी,
जब-जब रगों में जोश दौड़ा, है सरकार गिरी!

राजभवन में देशद्रोहियों को जैसे इनाम मिला,
संसद हमले के आरोपी को भी सम्मान मिला !

राजभवन में बैठे नेता सारे अब तुम संभल जाओ,
इससे पहले हम बदलें तुम अपने आप बदल जाओ !

ऐसा ना हो भगत सिंह कही फिर बंदूकें बो जाये,
बदला लेने की खातिर जिंदा उधम सिंह हो जाये !

दरबारों के परपंचो से धीरज मेरा भी डोल गया,
सच की खातिर आज मै भी मरने की भाषा बोल गया..!!

मंगलवार, 9 अगस्त 2011

कुछ जज्बात...


"दिल-ओ-नज़र से कुछ देर भी जुदा रखूं,

ये मेरे बस मैं नहीं की तुझे खफा रखूं !

नहीं है कुछ भी मेरे ज़ेहन में सिवा इसके,

मैं तेरी याद भुला दूँ तो याद क्या रखूं !!"


"टुकड़ों में जी रहे हैं, जीने की चाह में हम,

महंगा पड़ा है शायद ये ज़िन्दगी का शौक..

सादगी है ये की दिल कहता है सबको अपना,

मुझको मिटा न डाले कहीं ये दोस्ती का शौक..."


"जो आजमाते हैं उन्हें भी ये पता चले,

हम साथ में लिये हुए किस की दुआ चले।

ख्वाहिश है या खलिश है या कोई खुमार है,

तू न दिखा तो हम जुस्तजू-ए-तन्हाई चले..।।"


"सब बलाएँ रोज मेरी अपने सर लेती रही

माँ ही थी जो सह के सब कुछ भी दुआ देती रही

उसके दम पर आ अंधेरों आज भी रोशन हूँ मैं

मेरी बुझती लौ को माँ हर दिन हवा देती रही........"


"आवारा मिजाजी से निकलने नहीं देता ,

मैं चाहूँ बदलना वो बदलने नहीं देता ,

ना जाने कैसा उसकी दोस्ती में है नशा ,

एक उम्र हुई मुझको संभलने नहीं देता...."


"खताए उसकी आज उसको बता आये हम,

आँखों के मोती को आँखों से गिरा आये हम,

कहते ही क्या उस इश्क के व्यापारी को भला,

दिखा के आईना नजरो से गिरा आये हम...."


"हम से बिछड़ कर बेनाम हो जाओगे,

सौदागरों के हाथो नीलाम हो जाओगे,

हमें अच्छा नहीं लगता तेरा हर एक से मिलना,

हर किसी से मिलोगे तो आम हो जाओगे..! "


"कुछ फासले सिर्फ आँखों से होते हैं,

दिल के फासले तो बातों से होते हैं,

कोई लाख भुलाने कि कोशिश करे पर,

कुछ रिश्ते ख़त्म सिर्फ साँसों से होते हैं..!"


"क़सम उन मस्त आँखों कि,

मै वो लबरेज सागर हूँ,

जो मस्ती में चल निकलूँ,

तो सारी दुनियां को ले डूबूं.."

...

"बस एक ही तमन्ना रखता हूँ मैं अपने दिल में...

मुहब्बत से मिलो चाहे मुझे बर्बाद ही कर दो ..."


"दांत भी टूटी, खाट भी टूटा, उनसे प्यार निभायी में ..

उनके शर्म ने ली जान हमारी , भर गर्मी ओढ़ रजाई में ..."


"जब करो इज़हार इश्क का, जेब-ओ-दिल पर हाथ रख लेना,

मान गयी तो खर्च बढेगा, ना मानी तो कुछ टूटेगा ..."


"मौला यूँ ही रखना मेरे सर पे अपना हाथ

माँ भी मेरे साथ हो मेरे बाबु जी भी साथ....."


"ना करना हौसले की बात तू मुझसे महोब्बत में

अक्ल की हम नहीं सुनते जुनूँ से काम करते हैं... "


"सोचता हूँ बिना शर्त के आये मौत तो हाथ मिला लूं ,

कि उब्ब गया हूँ ज़िन्दगी से समझौता करते-करते...."


"मेरी आवारगी में कुछ दखल तुम्हारा भी है,

तुम्हारी याद आती है तो हमे घर अच्छा नहीं लगता.."


"कहता हैं दर्दे जिगर को लफ्जों से मत तोलना

आँख से गिरने की ख्वाइश कुछ तो तेरे खूं में हो......."


"आँखों के आईने में किस किस को छुपाता वो

हज़ार थे हम जैसे ख्वाबों में आने वाले......"


"ये सोच के सूरज को मुटठी में भर लिया

बादल के साये देर तक मेरे साथ रहेंगे .."


"देख ले आ मौत आकर आज फिर हारेगी तू

माँ मिलेगी साथ मेरे, छोड़ कर भागेगी तू...."


"कुछ नए तकाजे के पुराने लोग भी यही कहने लगे हैं ,

हम खुद के लिए नहीं जीते किसी और पर ही मरने लगे हैं !"


"तमन्ना वो तमन्ना है जो दिल ही दिल में रह जाए ..

जो मर कर भी न पूरी हो उसे अरमान कहते हैं !!..."


"हर मुद्दे पर डर-किनारी अच्छी नहीं होती...कि ,

कभी तो उतरना होगा मैदां में, शहीदी आजमाने को !"


"उसे तो खो दिया है अब न जाने किसको खोना है,

लकीरों में जुदाई की अलामत अब भी बाकी है...."


"ये खामोश मिजाजी इस दौर में तुम्हे जीने नहीं देगी,

इस दौर में जीना है तो कोहराम मचा दो ....!"


"कभी जो मुझसे पूछ ले कोई मेरी मर्जी,

तो अपना नाम मोहब्बत, तेरा वफ़ा रखूं.."


"हमने माना की खुद न पूछोगे हाल हमारा,

पर ख़ाक हो जायेंगे तुम को खबर होने तक..."


"वो एक शख्स जो सब को संभाले रखता था,

तुम्हे खबर ही नहीं कि बिखर गया कब का..."


"फिर कोई ताज़ा जख्म दे ऐ दोस्त..

कि बड़ी हसरत है मुस्कुराने कि..."


"इतना आसन नहीं मोहब्बत का पता,

खुद भटक जाते हैं, यहाँ रास्ता बताने वाले.."

Pages